खुदरा महंगाई जुलाई में घटकर 3.15 फीसद पर, पढ़े पूरी खबर

ईंधन और बिजली सस्ता होने से उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित Retail inflation जुलाई में मामूली घटकर 3.15 प्रतिशत हुई। हालांकि खाद्य वस्तुओं की महंगाई दर में वृद्धि हुई है। सरकार द्वारा मंगलवार को जारी आंकड़े के अनुसार consumer price सूचकांक आधारित खुदरा महंगाई दर जून में 3.18 प्रतिशत तथा पिछले साल जुलाई में 4.17 प्रतिशत थी।

सांख्यिकी एवं कार्यक्रम Ministry of Implementation के तहत आने वाले केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय के आंकड़े के अनुसार खाद्य वस्तुओं की महंगाई दर जुलाई में 2.36% रही जो इससे पूर्व महीने में 2.25% से थोड़ा अधिक है। सब्जियों की महंगाई दर आलोच्य महीने में कम होकर 2.82%  रही जबकि जून में इसमें 4.66% की बढ़ोतरी हुई थी। वहीं दाल और उसके उत्पादों की कीमतों में जुलाई महीने में 6.82% की वृद्धि हुई जबकि इससे पिछले महीने जून में यह 5.68 % थी।

फलों के मामले में कीमत में तेजी की प्रवृत्ति रही। इस खंड में महंगाई दर आलोच्य महीने में शून्य से 0.86% नीचे रही जबकि एक महीने पहले इसमें 4.18% की गिरावट आयी थी। मांस और मछली जैसे प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों की महंगाई दर इस साल जुलाई में 9.05 प्रतिशत रही जो जून के 9.01 प्रतिशत के लगभग बराबर है। अंडों के मामले में महंगाई दर घटकर 0.57 प्रतिशत पर आ गयी जबकि इससे पिछले महीने जून में यह 1.62 प्रतिशत थी।

ईंधन और बिजली की श्रेणी में कीमतों में जुलाई महीने में 0.36 प्रतिशत की गिरावट आयी जबकि इससे पूर्व महीने में इसमें 2.32 प्रतिशत की तेजी आयी थी। इक्रा की प्रधान अर्थशास्त्री अदिति नायर ने कहा, ”उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति में मामूली गिरावट का कारण ईंधन और बिजली के दाम में कमी है। यह स्थिति तब है जब खाद्य वस्तुओं के दाम बढ़े हैं।”

loading...

Leave a Comment