Taj Mahal को लेकर UNO ने जताई चिंता, पढ़े पूरी खबर

Uttar Pradesh की प्रदूषित हवा को लेकर संयुक्त राष्ट्रसंघ भी गंभीर है। वहां के अधिकारी लगातार इस पर नजर रखे हैं। Kanpur  की Monitoring उसके सबसे अधिक दूषित होने के बदनुमा दाग की वजह से कराई जा रही है।

यह दाग 2 साल पहले विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट से सार्वजनिक हुआ था, वहीं हानिकारक गैसों से विश्व के सातवें अजूबे ताजमहल के रंग-रूप में बदलाव को लेकर चिंतन शुरू हुआ है। अधिकारियों ने केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से Kanpur और Agra की वायु गुणवत्ता रिपोर्ट मांगी है।

ऐसे में CPCB ने बाहर से आने वाली हवा की Monitoring के लिए IIT Kanpur से मदद मांगी है। दोनों संस्थाओं के बीच वायु गुणवत्ता आकलन पर करार हो चुका है। इसकी अवधि 1 साल तक रहेगी, लेकिन जांच आगे तक चलेगी।

भारत में वायु प्रदूषण गंभीर समस्या है। कई शहरों में स्थिति बहुत भयावह है। सांस और दमे के रोगी तेजी से बढ़ रहे हैं लेकिन यह पहली बार है जब वायु प्रदूषण पर UNO ने चिंता जताई है। उसके United Nation Environment Program के अधिकारी वैलेनटीन पिछले दिनों सीपीसीबी अफसरों से मिल चुके हैं।

New Delhi में 15 सितंबर से पहले IIT Kanpur के सिविल इंजीनियरिंग, इनवायरमेंटल इंजीनियरिंग, सीपीसीबी, यूपीपीसीबी और यूएनओ के अधिकारियों की बैठक प्रस्तावित है। इसमें Monitoring की पूरी रणनीति तैयार होगी।

loading...

Leave a Comment