पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने रणजी ट्रॉफी को लेकर दी ये सलह

पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग का कहना है कि Indian Team में खेलने वाले खिलाड़ियों को जब भी मौका मिले उन्हें राष्ट्रीय चैंपियनशिप रणजी ट्रॉफी में खेलना चाहिए। सहवाग ने DDCA के समारोह में Indian Captain Virat Kohli और अन्य टीम सदस्यों की उपस्थिति में इस बात पर जोर दिया कि भारतीय खिलाड़ियों को रणजी ट्रॉफी में खेलना चाहिए।

पूर्व विस्फोटक सलामी बल्लेबाज सहवाग ने कहा, “मेरे करियर में मेरी बड़ी इच्छा थी कि मैं रणजी ट्रॉफी को अपने हाथों में उठाऊं। लेकिन मेरी यह इच्छा पूरी नहीं हो पाई।” उन्होंने कहा, “2007 में मैं रणजी ट्रॉफी के सेमीफाइनल तक पहुंचा था, लेकिन फिर फाइनल नहीं खेल पाया था।

Delhi ने तब रणजी ट्रॉफी का खिताब जीता था। शिखर धवन, प्रदीप सांगवान उस समय खेले थे और उन्होंने ट्रॉफी उठाई थी। मुझे इस बात का हमेशा अफसोस रहा कि मैं अपने हाथों रणजी ट्रॉफी नहीं उठा पाया।”

वीरेंद्र सहवाग ने Delhi के खिलाड़ी और Indian Captain Virat Kohli , शिखर धवन, नवदीप सैनी से कहा कि उन्हें जब भी मौका मिले रणजी ट्रॉफी में खेलना चाहिए। हर खिलाड़ी के लिए प्रथम श्रेणी में खेलना बहुत जरुरी होता है।

उन्होंने कहा, “हमारे पास Delhi Team में बड़े खिलाड़ी हैं। लेकिन वे कभी साथ नहीं खेल पाते, जिसके कारण Delhi लगातार रणजी खिताब नहीं जीत पाती है। Delhi ने आखिरी बार 2007 में खिताब जीता था और तब गौतम गंभीर कप्तान थे और उन्होंने ट्रॉफी उठायी थी। मेरा मानना है कि जो भारत के लिए खेलते हैं उन्हें भी रणजी ट्रॉफी खेलना चाहिए।”

loading...

Leave a Comment