Category: संपादकीय

संपादकीय

बढ़ते बाघ की एक झलक

कहा जाता है कि एक समय में World में जितने Tiger थे, इस वक्त उसके 5% ही रह गए हैं। ऐसे समय में, जब World  में बाघों की संख्या लगातार कम हो रही है, अपने देश में उनकी तादाद का...

संपादकीय

नए भारत के राष्ट्रपति

रामनाथ कोविंद ने ससंद के संयुक्त सत्र को सबोधित करते हुए सरकार के पांच साल का जो खाका प्रस्तुत किया हैं, उसे पिछले पांच साल के उसके कामकाज की निरंतरता में देखा जा सकता है। पिछली यूपीए सरकार के दो...

संपादकीय

उनके बिना सितारों की सूची नहीं…

महाकवि सुमित्रानंदन पंत ने मुझसे एक बार पूछा कि भारत के वे  कौन बारह लोग हैं जो मेरी दृष्टि में सबसे चमकते हुए सितारे हैं। मैंने उन्हें कृष्ण, पंतजलि, बुद्ध,  महावीर, नागार्जुन,शंकर, गोरख, कबीर, नानक, मीरा, रामकृष्ण कृष्णमूर्ति की सूची...

संपादकीय

अंतरिक्ष से आने वाले खतरों से खुद ही निपट लेगा भारत, तैयारियां शुरू

27 March, 2019 को जब भारत ने मिशन शक्ति के तहत एक स्वदेशी एंटीसैटेलाइट मिसाइल से 300 किलोमीटर दूर अंतरिक्ष की निचली कक्षा में तैनात अपना एक जिंदा उपग्रह Microsat-R को मार गिराया और इस तरह भारत दुनिया का चौथा...

संपादकीय

प्रकृति की सुरक्षा जीवन रक्षा

ग्लोबल वार्मिंग से हो रहा जलवायु परिवर्तन दुनिया के सामाजिक-आर्थिक विकास पर गहरा असर डाल रहा है। बीती आधी सदी में इसके कारण धनी देश और भी धनी तथा गरीब देश और गरीब होते गए हैं। भारतीय अर्थव्यवस्था को इसके चलते...

संपादकीय

युवा पीढ़ी को पेड़ पौधों और चिड़ियों से जोड़ा

जब भी मैं अपनी आंख बंद करती हूं मेरे सामने बचपन के वे दिन सामने आ जाते है, जब सुबह पक्षियों के कलरव से मेरी आंखे खुलती थी और नाश्ते के समय मां के साथ मैं गोरैया और दूसरे पक्षियों...

संपादकीय

यह है चीन की विकास गाथा

बंदरगाह में डेढ़ सौ पियानो लंबे समय से पड़े हैं, जिन्हें चीन के त्यानजिन शहर में नवनिर्मित जुइलियार्ड स्कूल के दूसरे परिसर में भेजा जाना है। अमेरिका का जुइलियारड स्कूल नृत्य, नाटक और संगीत की शिक्षा देने के लिए प्रसिद्ध...

संपादकीय

चौकीदार ने जला दी सफेद बत्ती

पीएम नरेंद्र मोदी लोकसभा चुनाव प्रचार के लिए बिहार पहुंचे और उन्होने पांच साल की उपलब्धियों को गिनाते हुए विपक्षी दलों पर जमकर निशाना साधा और कहा, 70 साल तक आपने लाल बत्ती का रौब देखा, लेकिन गरीब के घर...

संपादकीय

ज्ञान, व्यक्ति को महान बना देता है

एक समय की बात है, बालक अष्टावक ने अपनी मां से पूछा कि मेरे पिता जी कहा है, माता जी बोली की वह शास्त्रार्थ करने के लिए राजा जनक की सभा में गये हैं लेकिन अभी तक उनकी कोई सूचना...

संपादकीय

क्यों…??? इंडियन पैरेंट्स कर देते हैं रिमोट से म्यूट……

ये है कहानी घर घर की, जी नहीं बात टीवी सीरियल की नहीं हो रही बल्कि बात हो रही है उन मौकों की कि टीवी पर कुछ ऐसा दिखा दिया या सुनाई दिया जाता है कि पैरेंट्स हो जाते हैं...