अतिकुपोषित बच्चों के परिवारों को पालक, मेथी, धनिया, गाजर, मूली, चुकन्दर आदि के बीजों का किया जा रहा वितरण

पीलीभीत सूचना विभाग 15 सितम्बर 2020/ महिला एवं बाल विकास मंत्रालय भारत सरकार के निर्देशानुसार उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा माह सितम्बर 2020 को राष्ट्रीय पोषण माह के रूप में मनाये का निर्णय लिया गया है|

जिसके अनुक्रम में जनपद के प्रत्येक ग्राम, आंगनबाडी केन्द्र, प्राथमिक विद्यालय, उच्च प्राथमिक विद्यालय, माध्यमिक विद्यालयों के साथ कन्वर्जेन्न विभागों द्वारा आयोजन किया जा रहा है।

जिलाधिकारी श्री पुलकित खरे द्वारा अभियान को जन आन्दोलन का रूप देने हेतु सभी विभागों को आवश्यक निर्देश निर्गत किये गये तथा अधिक से अधिक जन भागीदारी सुनिश्चित करने पर बल दिया गया।

पोषण माह के दौरान जनपद में वृद्वि निगरानी के अन्तर्गत आंगनबाडी कार्यकत्रियों एवं स्वास्थ्य विभाग की आशाओं का सहयोग लेते हुये घर-घर जाकर 07 माह से 05 वर्ष के बच्चों का वजन, लम्बाई की नाप करते हुए पोषण स्तर का चिन्हांकन किया गया।

ग्राम स्वास्थ्य पोषण दिवस प्रत्येक बुधवार व शानिवार को सोशल डिस्टेसिंग का पालन करते हुए स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य की जांच तथा चिन्हांकित गम्भीर अल्प वजन बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण व सैम/मैम बच्चों का चिन्हांकन कर टीकाकरण किया जा रहा है।

पोषण वाटिका की स्थापना प्रत्येक आंगनबाडी केन्द्र, प्राथमिक विद्यालय एवं सरकारी भवनों के परिसर में जहाॅ भूमि उपलब्ध है की जा रही है। इसी के साथ लाभार्थियों एवं ग्रामवासियों के घर आंगन तथा जहाॅ कच्ची भूमि उपलब्ध है पर पोषण वाटिका महत्व को बताते हुए पोषण वाटिका की स्थापना कराई जा रही है |

इस हेतु अतिकुपोषित बच्चों के परिवारों में पालक, मेथी, धनिया, गाजर, मूली, चुकन्दर आदि के बीजों का वितरण किया जा रहा है। डिजिटल पोषण पंचायत आॅनलाइन आयोजित करते हुए बेबिनार के माध्यम से लाभार्थियों के मध्य पोषण का महत्व बताते हुए कुपोषण से बचने एवं कैसे पोषण प्राप्त करें पर चर्चा की गई।

आॅनलाइन प्रतियोगिता कोविड-19 जैसी महामारी को दृष्टिगत रखते हुए पोषण माह में जागरूकता फैलाने हेतु हाईस्कूल, इण्टरमीडिएट के बच्चों के मध्य पोषण विषयक आॅनलाइन प्रतियोगिताएं सम्पन्न कराई जा रही हैं।

रिपोर्टर यूपी सिंह/ मुकेश सक्सेना

Leave a Comment