कृषि विभाग द्वारा संचालित योजनाओं से अधिक से अधिक कृषकों को किया जाये लाभान्वित-जिलाधिकारी

पीलीभीत सूचना विभाग 15 सितम्बर 2020/  जिलाधिकारी श्री पुलकित खरे की अध्यक्षता में कृषि विभाग से सम्बन्धित विभागीय योजनाओं की समीक्षा बैठक देर शाम गांधी प्रेक्षागृह पीलीभीत में सम्पन्न हुई।

आयोजित बैठक में जिलाधिकारी द्वारा कृषि विभाग के अन्तर्गत रेशम विभाग, मत्स्य विभाग, उद्यान, लघु सिंचाई, डास्क आदि विभागों में संचालित योजनाओं की प्रगति समीक्षा की गई।

कृषि विभाग द्वारा संचालित किसान सम्मान निधि योजना, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, इन सीटू योजना की प्रगति की समीक्षा के दौरान उप निदेशक कृषि को निर्देशित किया गया कि अगली बैठक तक समस्त किसान सहायकों द्वारा अपनी-अपनी ग्राम पंचायत के किसानों से संबंधित रजिस्टर तैयार कराया जाए|

जिसमें किसानों से सम्बन्धित जानकारी हेतु किसान का नाम, उसकी गाटा संख्या और विभिन्न योजनाओं से लाभान्वित योजना का नाम का अंकन किया जाएगा। उपरोक्त रजिस्टर के माध्यम से ही जिन किसान बंधुओं को किसी भी योजना का लाभ नहीं मिल पाया है, उन्हें लाभ प्रदान करने की कार्यवाही की जाएगी।

बैठक में जिलाधिकारी द्वारा निर्देशित किया गया कि समस्त किसान सहायकों के माध्यम से ही कृषि विभाग से संबंधित समस्त विभागों द्वारा संचालित योजनाओं को किसानों तक पहुंचाने का कार्य किया जाएगा|

इस कार्य हेतु समस्त किसान सहायकों को प्रतिदिन कम से कम 2 पंचायतों का भ्रमण कर योजनाओं के संबंध में प्रचार प्रसार किया जाये और किसानों को योजनाओं के संबंध में जागरूक किया जाये।

उन्होंने समस्त किसान सहायाकों को धान रजिस्ट्रेशन के संबंध में कड़े निर्देश देते हुए कहा कि अपनी-अपनी पंचायतों के समस्त धान उत्पादक किसानों का पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन अनिवार्य रूप से कराना सुनिश्चित किया जाए।

उन्होंने कहा कि रबी फसल हेतु प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से संबंधित किसानों को जागरूक किया जाए और अधिक से अधिक किसानों को योजना का लाभ प्रदान करने हेतु प्रोत्साहित किया जाए।

बैठक में जिलाधिकारी द्वारा विभाग वार योजनाओं की समीक्षा के दौरान मत्स्य विभाग को शासन द्वारा निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप मत्स्य पालन के पट्टे कराने हेतु निर्देशित किया गया।

जिला उद्यान अधिकारी को लक्ष्य के अनुरूप ड्रिप सिंचाई व बागान वृद्धि करने के संबंध में दिशा निर्देश देते हुए कहा कि अधिक से अधिक लोगों को इस संबंध में रोजगार उपलब्ध कराया जाए।

इसके साथ ही साथ जिलाधिकारी द्वारा रेशम, लघु सिंचाई विभाग, डास्क की योजनाओं की समीक्षा करते हुए निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप कार्य करने हेतु निर्देशित किया गया।

आयोजित बैठक में जिलाधिकारी द्वारा इन सीटू योजना के तहत ग्राम पंचायत समिति के माध्यम से पराली निस्तारण हेत उपकरणों को उपलब्ध कराने हेतु समिति का रजिस्ट्रेशन कराने के संबंध में उप निदेशक कृषि व जिला राज पंचायत अधिकारी को आवश्यक दिशा निर्देश प्रदान किए गए।

इस दौरान जिलाधिकारी द्वारा समस्त किसान सहायकों को आगामी पराली की समस्या से पूर्व गांव में जा जाकर लोगों को पराली जलाने से होने वाले नुकसान के संबंध में जागरूक करने तथा पराली का उपयोग कर जैविक खाद के रूप में प्रयोग करने हेतु प्रोत्साहित करने के निर्देश दिए गए।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी श्री श्रीनिवास मिश्र, उप निदेशक कृषि श्री यशराज सिंह, जिला कृषि अधिकारी जिला डाॅ0 विनोद कुमार यादव, गन्ना अधिकारी श्री जितेन्द्र कुमार मिश्रा, मुख्य चिकित्सा अधिकारी भूमि संरक्षण अधिकारी सहित जिला उद्यान अधिकारी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

रिपोर्टर यूपी सिंह/ मुकेश सक्सेना

Leave a Comment