घर वालो से लॉकडाउन के कारण न मिल पाने से राजमिस्त्री ने की खुदकुशी

 गोंडा से रोजी रोटी के लिए शहर आया राजमिस्त्री Lockdown में फंस गया। किराए पर रहने को जगह तो मिल गई, लेकिन परिवार से दूरी बर्दाश्त नहीं हुई। स्वजनों के पास न जा पाने से दुखी होकर उसने खुद को आग लगा ली। Police ने दीवार तोड़कर उसे बाहर निकाला और LLR Hospital ले गई, जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई।

गोंडा के राजापुर गांव निवासी 30 वर्षीय राजमिस्त्री बबलू काम के लिए शहर आया था। डेढ़ साल पहले उसने कुलीबाजार निवासी शिवकुमार का सेन पश्चिम पारा चौकी क्षेत्र के सुंदर नगर में मकान बनाया था। होली के बाद वह काम करने शहर आया और यहां Lockdown में फंस गया। कहीं सिर छिपाने की जगह नहीं मिली तो उसने शिवकुमार से संपर्क किया। उन्होंने उसे सुंदरनगर वाले मकान में किराए पर जगह दे दी। Mobile न होने से उसका परिवार से संपर्क टूट गया था। परिवार से दूरी को लेकर वह परेशान था। स्थानीय निवासियों ने बताया कि 1-2 बार फोन पर बात करते-करते वह रोने लगा था।

बुधवार को तनाव में उसने केरोसिन डालकर खुद को आग लगा ली। लोगों की सूचना पर पहुंची Police ने कमरे और बाहर बनी दुकान के बीच की लॉबी की दीवार को तोड़कर उसे बाहर निकाला। पूछताछ में वह अपना नाम गोंडा जनपद के राजापुर निवासी बबलू बताकर बेहोश हो गया। हैलट अस्पताल में उसकी मौत हो गई। बिधनू थाना प्रभारी पुष्पराज ने बताया कि गोंडा जिले के 3 थानाक्षेत्रों में राजापुर गांव हैं। वह किस थाना क्षेत्र में रहता था इसका अभी पता नहीं चल सका है। तीनों थानों की पुलिस से संपर्क कर उसके घर वालों को सूचना देने का प्रयास कर रहे हैं।

Leave a Comment