चीन को तोहफे में दी जमीन, महबूबा मुफ्ती की बेटी का मोदी सरकार पर अटैक

  • गलवान के बहाने केंद्र पर इल्तिजा का हमला
  • ‘चीन को तोहफे में दी हमारी जमीन’
  • ‘अवैध तरीके से खत्म किया गया 370’

लद्दाख के गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ मुठभेड़ के बहाने जम्मू-कश्मीर की पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती की बेटी इल्तिजा मुफ्ती ने अनुच्छेद 370 का मामला एक बार फिर से उठाया है. उन्होंने ट्वीट कर कहा कि क्या जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा इसलिए छीना गया था ताकि यहां की जमीन चीन को तोहफे के तौर पर दी जा सके.

इल्तिजा मुफ्ती आजकल अपनी मां महबूबा मुफ्ती के ट्विटर हैंडल को संभाल रही हैं और उसी के जरिए देश दुनिया के घटनाक्रम पर अपनी राय रखती हैं.

गलवान के बहाने अनुच्छेद 370 की याद

इल्तिजा ने गलवान वैली में चीनी सेना की मौजूदगी को लेकर केंद्र सरकार पर तीखा हमला किया है. इसी के बहाने उन्होंने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाने पर सरकार पर हमला किया है।

चीन को तोहफे में दी जमीन

इल्तिजा ने ट्वीट किया, “अनुच्छेद 370 को अवैध तरीके से खत्म किया गया ताकि यहां की जमीन ली जा सके और स्थानीय लोगों को शक्तिहीन किया जा सके. आज चीन ने गलवान घाटी को हथिया लिया है और भारत की सरकार इसे स्वीकार भी नहीं कर रही है, क्या जम्मू कश्मीर को इसलिए अलग किया गया ताकि यहां की जमीन चीन को तोहफे के तौर पर दी जा सके.”

गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के अवैध कब्जे को खत्म करने में भारतीय सेना के 20 जवान वीरगति को प्राप्त हुए हैं. पिछले सोमवार की रात को यहां जीरो डिग्री से भी कम तापमान के बीच भारत और चीन के सैनिकों के बीच जबरदस्त लड़ाई हुई. बिना गोली बारूद के हुई आमने-सामने की इस लड़ाई में चीन के भी 43 जवान मारे गए और घायल हुए हैं.

5 अगस्त को खत्म हुआ था J-K का विशेष दर्जा

पिछले साल 5 अगस्त को केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करते हुए राज्य में लागू अनुच्छेद 370 को समाप्त कर दिया है. इसके अलावा जम्मू-कश्मीर से लद्दाख को अलग कर दिया गया है. जम्मू-कश्मीर और लद्दाख अब दोनों ही केंद्र शासित प्रदेश हैं.

5 अगस्त से ही राज्य की पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती जम्मू-कश्मीर प्रशासन की हिरासत में है. अब उनके ट्विटर हैंडल को उनकी बेटी इल्तिजा मुफ्ती चलाती हैं।

रिपोर्टर बीपी पाण्डेय

Leave a Comment