तूफान ने मचायी तबाही भुवनेश्वर और पुरी में जनजीवन ठप, 12 की मौत

ओडिशा में शुक्रवार को दिन भर भीषण तबाही मचाने के बाद फणि तूफान देर रात पश्चिम बंगाल को पार कर शनिवार की शाम तक बांग्लादेश की तरफ चला गया। तूफान अपने पीछे भयंकर तबाही का मंजर छोड़ गया। तूफान की चपेट में आने से अब तक राज्य में 12 लोगों की की मौत हो चुकी है, जबकि सैकड़ों लोग घायल हैं।

तूफान के बाद राजधानी भुवनेश्वर समेत कई जिलों में आम जनजीवन शनिवार की देर शाम तक ठहरा हुआ था। बिजली और संचार व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई। राजधानी भुवनेश्वर और पुरी में लोगों के सामने खाने के सामान और पीने के पानी की गंभीर समस्या पैदा हो गई है। छोटे बड़े होटल बंद रहने से लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा।

इस बीच, ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने कहा है कि पूरी तरह से क्षतिग्रस्त आवासों का निर्माण आवास योजनाओं के तहत किया जाएगा। कृषि और बागवानी फसलों और पशु संसाधनों, मत्स्य पालन का आकलन और तदनुसार मुआवजा दिया जाएगा। राहत और बहाली के बाद जल्द ही वृक्षारोपण मिशन मोड में किया जाएगा।

फैनी के कारण रेल एवं हवाई सेवाएं रद होने से यात्रियों को काफी परेशानी हुई। एयर इंडिया ने शनिवार को दोपहर तीन बजे से दिल्ली-भुवनेश्वर और शाम 7:45 बजे भुवनेश्वर-दिल्ली के लिए अतिरिक्त फ्लाइट का संचालन किया। वहीं, रेलवे भी अपनी सेवा जल्द शुरू करने की तैयारी में है।

पुरी में शुक्रवार को जहां 245 किलोमीटर की प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चली। वहीं, अन्य हिस्सों में 175 किलोमीटर की रफ्तार से तेज हवाओं के साथ मूसलाधार बारिश हुई। समुद्र में उठी ऊंची लहरों से लोग दहशत में रहे। तेज हवा से हजारों पेड़, झोपडि़यां और घर के छप्पर उजड़ गए तो कई जगहों पर दीवारें ढह गई। पुरी सहित कई जगहों पर भूस्खलन की भी खबर है। जगह-जगह क्षतिग्रस्त मकान और उखड़े पेड़ तबाही की गवाही दे रहे हैं।

 

Leave a Comment

x