बहुत तीव्र था विस्फोट, कोई सीढ़ी से गिरा तो किसी के कान के पर्दे फट गए

बाबूपुरवा बगाही में विस्फोट को पुलिस शुरुआती जांच में इसे पटाखा बम बता रही है, लेकिन बम की तीव्रता पटाखे से कई गुना अधिक है। इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सूअर के मुंह में बम फटने के बावजूद घटनास्थल पर लगभग पांच से सात सेमी का गड्ढा हो गया। इसके अलावा विस्फोट का प्रभाव 25 फिट की परिधि में दिखाई पड़ा। छोटेलाल की स्कूटी और सड़क पर खड़ी कार विस्फोट से दूर होने के बावजूद क्षतिग्रस्त हो गई। इसके अलावा नोखेलाल के घर का कुछ हिस्सा भी क्षतिग्रस्त हुआ। एक दीवार भी गिर गई।

बम विस्फोट की गूंज एक किमी तक सुनाई पड़ी। इस दौरान जहां आठ साल का अभय बम के सीधे संपर्क में आकर घायल हुआ, वहीं तेज धमाके की वजह से नोखेलाल की किराएदार संजना के कान का पर्दा फट गया। नोखेलाल की बेटी बाहर से बाल्टी में पानी भरकर ला रही थी। विस्फोट हुआ तो पानी की बाल्टी हाथ से छूट गई और गिरने से हाथों व पैर में चोट लग गई। इसी तरह से नोखेलाल के बेटे विनोद की पत्नी सरिता घटना के समय जीने से नीचे उतर रही थी। धमाका हुआ तो जीने से नीचे गिर पड़ी, जिससे उसका हाथ टूट गया। छोटेलाल साहू के बेटे राहुल की गर्भवती पत्नी रितिका भी तेज धमाके की वजह से बेहोश हो गई। उसे भी तत्काल अस्पताल ले जाना पड़ा।

Leave a Comment