महाराष्ट्र में बारिश ने मचाई तबाही, जाने खास खबर

भारत में हो रही भारी बारिश के कारण भूस्खलन व दुर्घटनाओं के बाद शनिवार को राहत व बचाव कार्य की पूरी टीम मलबे के नीचे दबे दर्जनों घरों से लोगों को निकालने में जुटी रही। चार दशकों के बाद महाराष्ट्र ने जुलाई में इतनी भारी बारिश का सामना किया है। कई दिनों से हो रही बारिश के कारण हजारों लोग प्रभावित हुए हैं।  NDRF के DIG मोहसिन शाहिदी ने शुक्रवार को बताया, ‘पिछले 2 दिनों में भारी बारिश के कारण महाराष्ट्र, कर्नाटक, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के कई हिस्से बाढ़ से प्रभावित हैं। महाराष्ट्र में हमारी 18 टीम राहत एवं बचाव अभियान में लगी हैं। उड़ीसा से 8 अतिरिक्त टीमों को एयरलिफ्ट करके महाराष्ट्र भेजा जा रहा है।’

अभी देश कोरोना महामारी की दूसरी लहर के प्रकोप से निकलने की कोशिश से जूझ ही रहा है और कई हिस्सों में भारी बारिश के कारण बाढ़ के हालात बन गए हैं। देश के पश्चिम और दक्षिणी हिस्सों में भारी बारिश के कारण बाढ़  ने तबाही मचा रखी है। गोवा में भी भारी बारिश के कारण एक महिला की मौत भी हो चुकी है। महाराष्ट्र, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक समेत कई देश इस वक्त बाढ़ की चपेट में हैं।

पिछले कई दिनों से हो रही बारिश के कारण तेलंगाना के कई गांव पूरी तरह से पानी में डूब चुके हैं। इस क्रम में घरों में फंसे लोगों को निकालने के लिए NDRF की टीम को लगाया गया है। कुमुराम भीम, जगतियाल, वारंगल में रेड अलर्ट है वहीं राज्य के नौ जिलों में ऑरेंज अलर्ट जारी है। गुरुवार को मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने चीफ सेक्रेटरी सोमेश कुमार को निर्मल टाउन में एनडीआरएफ टीमों को तैनात करने का निर्देश दिया था।

Leave a Comment