वित्तविहीन शिक्षकों की उपेक्षा कर रही है सरकार-डा. कृष्णमोहन

बलिया :माध्यमिक वित्तविहीन शिक्षक महासभा जनपद इकाई बलिया के तत्वाधान में आर एस मेमोरियल एकेडमी चौकारी चिलकहर के प्रांगण में सोसल डिस्टेसिंग का ध्यान रखते हुए जिला कोर कमेटी की बैठक सम्पन्न हुई। इस अवसर पर प्रदेश महासचिव डॉ कृष्णमोहन यादव ने कहा की आज माध्यमिक शिक्षा में पूरे उत्तर प्रदेश में लाखों की संख्या में शिक्षक एवं शिक्षिकाएं मानदेय के अभाव में पीड़ित हो रहे हैं जबकि शिक्षक संगठन द्वारा समय-समय पर शिक्षक समस्याओं को बार-बार सरकार को अवगत कराने की के बावजूद भी सरकार द्वारा इन शिक्षक समस्याओं का समाधान नहीं किया गया और तो और उनकी उपेक्षा की जा रही है। इससे यह साफ हो गया है कि सरकार सब कुछ जानती भी है परंतु वित्तविहीन शिक्षकों पर ध्यान नहीं देना चाहती।

क्योंकि आज वैश्विक महामारी कोरोना के चलते प्रदेश के तमाम किसान मजदूर और बेरोजगार व्यक्तियों को सरकार किसी न किसी योजना के माध्यम से उन्हें सहायता देने का काम कर रही है वहीं वित्तविहीन शिक्षक समाज के अति पिछड़े इलाकों में स्थापित विद्यालयों में राष्ट्र निर्माण के कार्य करने के बावजूद भी शिक्षक के ऊपर ध्यान ना देकर अपनी जिम्मेदारी से भाग रही है। यही कारण है कि आज उत्तर प्रदेश माध्यमिक वित्तविहीन शिक्षक महासभा के प्रदेश नेतृत्व के आवाहन पर वित्तविहीन शिक्षक समस्याओं को लेकर 29 जून को प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों पर 11 बजे प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री उप्र सरकार एवं शिक्षा मंत्री को संबोधित पत्रक जिला अधिकारी को सौंपा जाएगा।

इस अवसर पर बैठक में जिला महासचिव अजय कुमार सिंह ने बैठक में आए हुए सभी कोर कमेटी के सदस्य से आह्वान करते हुए कहा कि 29 जून को सोसल डिस्टेंनसिंह का ध्यान देते हुए जिला मुख्यालय पर अपनी पूरी ताकत का प्रदर्शन करना होगा। कहा कि शिक्षक के सामने संघर्ष के सिवा दूसरा कोई रास्ता नहीं है और यह सरकार अपने रास्ते से भटक गयी है उसे रास्ता दिखाना ही होगा। कहा कि वित्तविहीन शिक्षकों का 87 प्रतिशत शिक्षण में सहयोग होने के बावजूद भी सरकार की अनदेखी कर रही जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

प्रदेश उपाध्यक्ष नागेंद्र सिंह ने कहा कि हम शिक्षक बार-बार सरकार से मांग रख रहे हैं कि हमें समान कार्य समान वेतन का अधिकार तो है किन्तु हमें सरकार से कुशल श्रमिक के बराबर मानदेय भी नहीं दे रही। यह कहां का न्याय है। इस अवसर पर वरिष्ठ प्रधानाचार्य कन्हैया हरि पूरी जी ने कहा की आज प्रधानाचार्य की हालत दिन प्रतिदिन बदतर होती जा रही है। विद्यालय कोरोना महामारी से 5 माह से बंद चल रहे हैं। जिसके कारण शिक्षकों को मिलने वाला अल्प मानदेय भी बच्चों द्वारा शुल्क नहीं आने के कारण नहीं दिला पाया है।

हम सरकार से मांग करते हैं कि वित्तविहीन शिक्षकों का शीघ्र शीघ्र से शीघ्र उनकी मांगों पर विचार किया जाए नहीं तो यही शिक्षक आगामी आने वाले दिनों में सरकार का विरोध करने का काम करेगा। जिला अध्यक्ष अशोक कुमार शुक्ला ने बैठक में आए हुए सभी पदाधिकारियों के प्रति अपना आभार प्रकट किया एवं संगठन के निर्णय पर खरा उतरने का आह्वान किया। बैठक में बालचंद मौर्य ,आलोक रंजन मिश्रा ,सौरभ कुमार मिश्रा, मुकेश चौहान, मनभरन यादव , सुनील कुमार यादव, शैलेंद्र पाण्डेय,सुधीर कुमार मिश्रा, दुर्गेश सिंह,रामप्रकाश यादव, सतीश यादव राजेश यादव, राम बचन यादव, गंगा यादव, सुनील शर्मा अंजनी कुमार सिंह, धनंजय उपाध्याय, राज नारायण यादव, आदि उपस्थित रहे। अध्यक्षता जिला संरक्षक हृदय नारायण वर्मा ने किया।

रिपोर्ट जितेन्द्र यादव

Leave a Comment