सुरक्षा और होगी मजबूत तैनात होगें राफेल विमान

Airforce ने फ्रांस से मिलने वाले 36 राफेल लड़ाकू विमानों को पाकिस्तान और चीन की सीमाओं के करीब बराबर-बराबर संख्या में तैनात करने का फैसला लिया है। इनमें से 18 राफेल विमान अंबाला Airforce बेस में तैनात किए जाएंगे। जबकि बाकी 18 पश्चिम बंगाल के हाशिमारा बेस में तैनात होंगे।

दोनों देशों से मिलने वाली किसी संभावित चुनौती के मद्देनजर यह तैनाती की जाएगी। पहला राफेल विमान फ्रांस में भले ही प्राप्त हो गया हो लेकिन इसे भारत पहुंचने में अभी वक्त लगेगा। अभी Airforce के पायलट इन विमानों को उड़ाने का प्रशिक्षण वहां हासिल करेंगे। इसके बाद इन्हें लाया जाएगा। वायुसेना सूत्रों के अनुसार, कुल चार विमान पहली खेप में अगले साल मई में अंबाला एयरबेस पर पहुंचेंगे।

इसके बाद कुछ-कुछ महीनों के अंतराल में चार-चार राफेल विमानों की खेप अंबाला और हाशिमारा एयरबेस पर पहुंचेगी। अगले दो से तीन सालों में सभी 36 राफेल विमान भारत को मिल जाएंगे। इस बीच Airforce सूत्रों ने इन अटकलों को भी खारिज किया है कि निकट भविष्य में 36 और राफेल विमान खरीदे जाने हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *