कालका-शिमला मार्ग पर चली पारदर्शी छत वाली ट्रेन

विश्व धरोहर कालका शिमला रेललाइन पर बुधवार को विस्टाडोम ट्रेन शुरू हो गई। विस्टाडोम एक साल तक चलती रहेगी। यात्री सुंदर वादियों का नजारा लेते हुए छह घंटे में कालका से शिमला पहुंचे। पहले दिन देशविदेश के 90 यात्री पहुंचे। ट्रेन सिर्फ बड़ोग स्टेशन पर रुकी। वापसी पर शिमला से कालका के लिए 46 यात्री रवाना हुए। विस्टाडोम में एक सप्ताह तक वेटिंग चल रही है।

विस्टाडोम कोच की छत कांच की बनी है। इसकी खिड़कियां भी पूरी तरह से पारदर्शी हैं। लिहाजा ट्रेन में बैठकर बाहर कुदरत की अनुपम छटा और आसमान के नजारे दिल खुश करने वाले होते हैं। इसके कोच कालका की रेलवे वर्कशॉप में तैयार किए हैं।

पर्यटकों के अलावा स्थानीय लोगों में भी विस्टाडोम ट्रेन के पहली बार ट्रैक पर चलने के दृश्यों को कैमरे में कैद करने का क्रेज दिखा। लोगों ने विस्टाडोम के कई चित्र खींचे। चंडीगढ़, नई दिल्ली, नागपुर के निवासियों के अलावा कुछ विदेशी नागरिकों ने भी इस ट्रेन से सफर किया। विस्टाडोम में सफर करने वाले पर्यटकों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। पर्यटकों ने देवदार और चीड़ के जंगल व पहाडिय़ों को कैमरे में कैद कर इस सफर को यादगार बना लिया। कुछ पर्यटकों ने विस्टाडोम के शुरू होने पर ही इसमें बुङ्क्षकग करवाकर शिमला घूमने का कार्यक्रम बनाया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *