Advertisement

मुख्य अभियंता नाराजगी जताई, पत्र भेजकर मांगी रिपोर्ट

नई दिल्ली
Advertisement

PM Modi की अग॒वानी में जल निगम के अभियंताओं ने हद दर्जे की मनमानी की। PM के स्वागत के लिए बैराज के Treatment Plant की मरम्मत और रंगरोगन कराया, लेकिन मानकों का पालन नहीं किया गया। अब शासन की ओर से जांच शुरू होने के बाद जलनिगम के कई अभियंता रडार पर आ गए हैं। फिलहाल दस्तावेज उपलब्ध न कराने से नाराज मुख्य अभियंता ने पत्र भेजकर रिपोर्ट मांगी है।

Advertisement

राष्ट्रीय गंगा परिषद की पहली बैठक 14 दिसंबर को कानपुर में हुई थी। इसकी अध्यक्षता करने PM Modi आए थे। उनके आगमन की तैयारियों के दौरान जल निगम के अभियंताओं ने बिना टेंडर कराए ही लाखों रुपये से बैराज स्थित वाटर Treatment Plant का रंग-रोगन और मरम्मत का काम कराया था। शासन के संज्ञान में आने के बाद इसकी जांच शुरू हो गई, तो अभियंताओं ने मामले को दबाने का प्रयास किया। जांच के लिए दस्तावेज भी उपलब्ध नहीं कराए। शासन ने इसे गंभीरता से लिया है।

अब जल निगम के मुख्य अभियंता राजीव निगम ने मुख्य अभियंता को पत्र भेजकर जानकारी मांगी है। इसमें कहा गया है कि कोई भी काम कराने से पहले ठेकेदार व विभाग के मध्य दरों व शर्तों का अनुबंध किया जाता है। उसी आधार पर काम होता है, लेकिन पत्रवली में फर्म के मूल कोटेशन लिफाफों सहित नहीं है। काम हो चुका है, लेकिन फाइल में वास्तविक माप संबंधी अभिलेख भी दर्ज नहीं हैं। इसके अलावा काम कराने से पहले और बाद की फोटोग्राफ भी नहीं है। इन्हें उपलब्ध कराने के साथ-साथ वित्तीय व प्रशासनिक स्वीकृति व प्राप्त धनराशि की जानकारी मांगी गई है। फर्म को भुगतान किया गया है या नहीं यह भी अस्पष्ट है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *