Advertisement

PMC के निलंबित मैनेजिंग डायरेक्टर का खुलासा,जाने पूरा मामला

नई दिल्ली
Advertisement

Punjab and Maharashtra Co-operative Bank ने HDIL Bank को 2,500 करोड़ रुपये का कर्ज दिया है। PMC के निलंबित प्रबंध निदेशक जॉय थॉमस ने इसका खुलासा किया है। यह बैंक के कुल कर्ज का करीब एक तिहाई है। उन्होंने कहा कि बैंक के पूर्व प्रबंधन ने गैर-निष्पादित संपत्तियों के मामले में निदेशक मंडल को अंधेरे में रखा।

Advertisement

थॉमस ने कहा कि पिछले 6-7 साल में HDIL पर PMC Bank का बकाया कर्ज बढ़कर 2,500 करोड़ रुपये से अधिक हो गया। जबकि प्रबंधन की ओर से निदेशक मंडल को यह नहीं बताया गया कि उसका सबसे बड़ा ग्राहक पिछले 2-3 साल से एनपीए हो गया है।

RBI ने मंगलवार को नियामकीय कार्रवाई करते हुए पीएमसी प्रबंधन को भंग कर दिया है। Central bank ने 6 महीने के लिए PMC के कामकाज के लिए प्रशासक नियुक्त किया है। बैंक का कुल बकाया कर्ज करीब 8,400 करोड़ रुपये है जबकि उसके पास कुल 11,630 करोड़ रुपये की जमा है।

थॉमस ने कहा, ‘निदेशक मंडल को इस बात की जानकारी नहीं थी कि HDIL का कर्ज एनपीए हो गया है। उसे इसकी जानकारी नहीं दी गई। इसका आवंटन केंद्रीय कार्यालय स्तर पर किया गया।’ उन्होंने यह नहीं बताया कि कर्ज आवंटन किसने किया।

मालूम हो कि PMC Bank के चेयरमैन वारियम सिंह HDIL के निदेशक मंडल में 2018 तक 9 साल से अधिक समय तक रहे। उनकी इस कंपनी में 1.7 फीसद हिस्सेदारी है। उन्होंने कहा कि HDIL के पास करीब 2,500 करोड़ रुपये बकाया हैं। इसमें 30 अगस्त को 96.50 करोड़ रुपये के दिए गए 2 कर्ज भी शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *