Advertisement

प्रदेश में तैनात 51 शिक्षक बर्खास्त, जानिए क्यों हुई ये कार्रवाई

कानपुर
Advertisement

बेसिक शिक्षा विभाग ने SIT की जांच के बाद प्रदेश के जिलों में तैनात 51 शिक्षकों को बर्खास्त कर दिया है। कार्रवाई का शिकार 7 शिक्षक औरैया और 44 शिक्षक अन्य जनपदों में तैनात हैं। इन जिलों के बेसिक शिक्षा अधिकारी को पत्र भेजकर प्रकरण की जानकारी देते हुए कार्रवाई अमल में लाने को कहा गया है। इन सभी शिक्षकों को अंतरजनपदीय तबादला योजना के तहत जिलों में तैनाती मिली है।

Advertisement

B.ED का फर्जी अंकपत्र लगाकर नौकरी पाने वाले शिक्षकों के मामले में अपर Police महानिदेशक विशेष अनुसंधान दल ने 13 सितंबर 2017 को सुनील कुमार बनाम डॉ. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय आगरा के मामले में High Court के आदेश पर मुकदमा दर्ज किया था।

इसकी विवेचना में बताया गया था कि B.ED सत्र 2005 के कई छात्रों ने अपनी अंक तालिका में फेरबदल कर अधिक अंक दिखाए है और शिक्षक पद पर नियुक्ति पा ली है। यह जांच प्रदेश के सभी 75 जिलों में कराई गई थी।

SIT की जांच में जिले में ऐसी डिग्री लगाकर नियुक्ति पाने वाले 51 शिक्षक चिह्नित किए गए थे। इन सभी शिक्षकों ने औरैया में ही काउंसलिंग कराकर नियुक्ति पाई थी। इसमें 44 शिक्षक प्रदेश के अन्य जिलों में तैनात हैं।

जिले में ADM, ASP व BSA की तीन सदस्यीय कमेटी गठित की गई। 51 शिक्षकों की डिग्री फर्जी मिलने पर जिलाधिकारी अभिषेक सिंह को रिपोर्ट दी गई। उनकी संस्तुति पर BSA ने प्रदेश के दूसरे जिलों में तैनात 44 शिक्षकों की बर्खास्तगी संबंधित नोटिस उनके संबंधित बीएसए को भेज दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

प्रदेश में तैनात 51 शिक्षक बर्खास्त, जानिए क्यों हुई ये कार्रवाई

कानपुर
Advertisement

बेसिक शिक्षा विभाग ने SIT की जांच के बाद प्रदेश के जिलों में तैनात 51 शिक्षकों को बर्खास्त कर दिया है। कार्रवाई का शिकार 7 शिक्षक औरैया और 44 शिक्षक अन्य जनपदों में तैनात हैं। इन जिलों के बेसिक शिक्षा अधिकारी को पत्र भेजकर प्रकरण की जानकारी देते हुए कार्रवाई अमल में लाने को कहा गया है। इन सभी शिक्षकों को अंतरजनपदीय तबादला योजना के तहत जिलों में तैनाती मिली है।

Advertisement

B.ED का फर्जी अंकपत्र लगाकर नौकरी पाने वाले शिक्षकों के मामले में अपर Police महानिदेशक विशेष अनुसंधान दल ने 13 सितंबर 2017 को सुनील कुमार बनाम डॉ. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय आगरा के मामले में High Court के आदेश पर मुकदमा दर्ज किया था।

इसकी विवेचना में बताया गया था कि B.ED सत्र 2005 के कई छात्रों ने अपनी अंक तालिका में फेरबदल कर अधिक अंक दिखाए है और शिक्षक पद पर नियुक्ति पा ली है। यह जांच प्रदेश के सभी 75 जिलों में कराई गई थी।

SIT की जांच में जिले में ऐसी डिग्री लगाकर नियुक्ति पाने वाले 51 शिक्षक चिह्नित किए गए थे। इन सभी शिक्षकों ने औरैया में ही काउंसलिंग कराकर नियुक्ति पाई थी। इसमें 44 शिक्षक प्रदेश के अन्य जिलों में तैनात हैं।

जिले में ADM, ASP व BSA की तीन सदस्यीय कमेटी गठित की गई। 51 शिक्षकों की डिग्री फर्जी मिलने पर जिलाधिकारी अभिषेक सिंह को रिपोर्ट दी गई। उनकी संस्तुति पर BSA ने प्रदेश के दूसरे जिलों में तैनात 44 शिक्षकों की बर्खास्तगी संबंधित नोटिस उनके संबंधित बीएसए को भेज दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *