Advertisement

अब हिम तेंदुओं के कुनबे को भी बढ़ाने का चलेगा अभियान

देश
Advertisement

 बाघों के कुनबे को बढ़ाने में मिली सफलता के बाद अब उसी तर्ज पर लगभग लुप्तप्राय श्रेणी में पहुंच चुके हिम तेंदुओं के संरक्षण और संव‌र्द्धन को लेकर भी अभियान चलेगा। जिसमें भारत के साथ नेपाल, मंगोलिया और रूस सहित हिम तेंदुओं की मौजूदगी वाले अन्य देश भी शामिल होंगे। हालांकि पाकिस्तान और चीन इसमें शामिल नहीं हुआ। जबकि उन्हें आमंत्रित किया गया था। फिलहाल मौजूदा समय में करीब 12 देशों में हिम तेंदुओं की मौजूदगी के प्रमाण है। भारत में इनकी संख्या करीब 400 से 700 के बीच मानी जाती है।

Advertisement

केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने बुधवार को विश्व हिम तेंदुआ दिवस के मौके पर इसके संरक्षण और संव‌र्द्धन के लिए वैश्विक स्तर पर साझा कार्यक्रम (GSLEP) की शुरुआत की। उन्होंने इस दौरान हिम तेंदुओं की मौजूदगी वाले दूसरे देशों के भी प्रतिनिधियों को संबोधित किया और कहा कि अगले एक दशक में हम सभी को हिम तेंदुओं की संख्या को दोगुना करने का लक्ष्य तय करना चाहिए।

जावडेकर ने इस दौरान बाघों की संख्या के बढ़ाने को लेकर किए गए प्रयासों की जानकारी भी साझा की है। साथ ही बताया कि इन्ही प्रयासों की नतीजा है कि मौजूदा समय में दुनिया में बाघों की कुल आबादी के 77 फीसद बाघ भारत में पाए जाते है। इसके साथ ही उन्होंने बाघों की तरह हाईटेक तरीके से हिम तेंदुओं की गणना का काम भी शुरु करने की सहमति दी। उन्होंने कहा कि इनकी संख्या को दोगुना करने के प्रयासों को शुरु करने से पहले इनकी ठीक तरीके से गणना जरूरी है। इस बीच इसे लेकर एक कार्ययोजना तैयार करने के भी दो दिनों की एक बैठक भी रखी गई है। जिसकी शुरूआत भी बुधवार से हुई है। हालांकि इनमें चीन और पाकिस्तान को छोड़कर हिम तेंदुओं की मौजूदगी वाले लगभग सभी देश शामिल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अब हिम तेंदुओं के कुनबे को भी बढ़ाने का चलेगा अभियान

देश
Advertisement

 बाघों के कुनबे को बढ़ाने में मिली सफलता के बाद अब उसी तर्ज पर लगभग लुप्तप्राय श्रेणी में पहुंच चुके हिम तेंदुओं के संरक्षण और संव‌र्द्धन को लेकर भी अभियान चलेगा। जिसमें भारत के साथ नेपाल, मंगोलिया और रूस सहित हिम तेंदुओं की मौजूदगी वाले अन्य देश भी शामिल होंगे। हालांकि पाकिस्तान और चीन इसमें शामिल नहीं हुआ। जबकि उन्हें आमंत्रित किया गया था। फिलहाल मौजूदा समय में करीब 12 देशों में हिम तेंदुओं की मौजूदगी के प्रमाण है। भारत में इनकी संख्या करीब 400 से 700 के बीच मानी जाती है।

Advertisement

केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने बुधवार को विश्व हिम तेंदुआ दिवस के मौके पर इसके संरक्षण और संव‌र्द्धन के लिए वैश्विक स्तर पर साझा कार्यक्रम (GSLEP) की शुरुआत की। उन्होंने इस दौरान हिम तेंदुओं की मौजूदगी वाले दूसरे देशों के भी प्रतिनिधियों को संबोधित किया और कहा कि अगले एक दशक में हम सभी को हिम तेंदुओं की संख्या को दोगुना करने का लक्ष्य तय करना चाहिए।

जावडेकर ने इस दौरान बाघों की संख्या के बढ़ाने को लेकर किए गए प्रयासों की जानकारी भी साझा की है। साथ ही बताया कि इन्ही प्रयासों की नतीजा है कि मौजूदा समय में दुनिया में बाघों की कुल आबादी के 77 फीसद बाघ भारत में पाए जाते है। इसके साथ ही उन्होंने बाघों की तरह हाईटेक तरीके से हिम तेंदुओं की गणना का काम भी शुरु करने की सहमति दी। उन्होंने कहा कि इनकी संख्या को दोगुना करने के प्रयासों को शुरु करने से पहले इनकी ठीक तरीके से गणना जरूरी है। इस बीच इसे लेकर एक कार्ययोजना तैयार करने के भी दो दिनों की एक बैठक भी रखी गई है। जिसकी शुरूआत भी बुधवार से हुई है। हालांकि इनमें चीन और पाकिस्तान को छोड़कर हिम तेंदुओं की मौजूदगी वाले लगभग सभी देश शामिल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *