Advertisement

2 महीने बाद आज फिर खोले गए सभी धार्मिक स्थल, पढ़े खबर

गोरखपुर
Advertisement

Corona Virus संक्रमण के कारण देश में लम्बे लॉकडाउन के बाद धीरे-धीरे सब अनलॉक भी हो रहा है। Lockdown 5.0 में अनलॉक-1 के फेज – 2 में सोमवार से बिना कन्टेंनमेंट वाले सभी जगह पर धार्मिक स्थल के साथ ही मॉल्स, होटल व रेस्टोरेंट काफी अहतियात के साथ खोलने की इजाजत दी गई है।

Advertisement

सरकार ने आज से धार्मिक स्थलों को फिर से खोलने की अनुमति दी है। हर जगह पर सरकार ने एहतियाती उपायों के साथ धार्मिक  स्थलों को खोलने की अनुमति दी है। मंदिरों में समूह गायन की अनुमति नहीं है जबकि मूर्तियों और पवित्र पुस्तकों आदि को छूने की अनुमति नहीं है। सोमवार सुबह सबसे पहले धार्मिक स्थल खोले गए। मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा में लोग फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए पहुंचे। लोगों ने वहां पर पूजा-अर्चना, नमाज तथा अरदास की। चर्च में भी काफी लोग पहुंचे हैं।

गोरखपुर में सूबे के CM Yogi ने गोरखनाथ मंदिर में पूजा-अर्चना की। इसके बाद लोग बड़ी संख्या में कतार में खड़े होकर दर्शन के लिए इंतजार करते हुए मंदिर में पहुंचे। गेट पर ही लोगों को सेनेटाइज किया जा रहा है। इसके साथ ही बिना मास्क के किसी को भी प्रवेश की इजाजत नहीं है।

Cm Yogi ने यहां पर लोक कल्याण के लिए आज रुद्राभिषेक किया। कोरोना संक्रमण से निजात और लोक कल्याण के लिए CM Yogi ने सोमवार की सुबह गोरखनाथ मन्दिर में रुद्राभिषेक किया। मंदिर के शक्तिपीठ में आयोजित इस आनुष्ठानिक पूजन को प्रधान पुरोहित आचार्य रामानुज त्रिपाठी वैदिक ने वेदपाठी ब्राह्मणों के साथ सम्पन्न कराया। इससे पहले CM ने गुरु गोरखनाथ की वैदिक मंत्रोच्चार के साथ पूजा-अर्चना की और अपने गुरु ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ के समाधि स्थल पर जाकर आशीर्वाद लिया।

इसी क्रम में उन्होंने मन्दिर परिसर का भ्रमण कर उस इंतजाम को देखा, जिसके लिए उन्होंने रविवार की देर रात निर्देशित किया था। 80 दिन बाद सोमवार से मन्दिर के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोल दिये गए हैं। अभी तक मंदिर में कम श्रद्धालु ही आये है। CM का निर्देश दर्शन-पूजन के दौरान हर हाल में फिजिकल डिस्टेंसिंग के पालन को लेकर है। CM आज यहां अब आइएमए और व्यापार मंडल के पदाधिकारियों के साथ बैठक करेंगे। 12:30 बजे दोपहर तक उन्हेंं लखनऊ के लिए रवाना होना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *