Advertisement

कोरोना की MW दवा के दूसरे दौर का ट्रायल शुरू

देश
Advertisement

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) भोपाल में एक दवा के क्लीनिकल ट्रायल पर देशभर की उम्मीदें टिकी हुई हैं। प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली दवा (माइकोबैक्टीरियम डब्ल्यू) के पहले चरण का ट्रायल यहां पूरा होने के बाद दूसरे दौर का क्लीनिकल ट्रायल शुरू कर दिया गया है। इसमें कोरोना के ऐसे मरीजों को शामिल किया जाएगा जो संक्रमित होने के बाद सामान्य हैं। उन्हें कोई लक्षण नहीं हैं या फिर मामूली लक्षण हैं। यह ट्रायल 200 मरीजों पर किया जाएगा। ट्रायल के पहले मरीजों से क्लीनिकल ट्रायल के नियमों के तहत सहमति ली जाएगी। इसके बाद तीसरे चरण का ट्रायल शुरू होगा। इसमें उन लोगों को शामिल किया जाएगा जो कोरोना के लिए ज्यादा जोखिम में रहते हैं। इनमें ज्यादातर स्वास्थ्यकर्मी होंगे। इन पर ट्रायल का मकसद यह देखना है कि दवा लेने के बाद उन्हें संक्रमण होता है या नहीं।
एम्स में इस दवा का पहले चरण का ट्रायल एक मई से शुरू हुआ था। इसमें कोरोना के 40 गंभीर मरीजों को ट्रायल के लिए चिन्हित किया गया था, लेकिन आठ पर ही ट्रायल हो पाया। मरीजों की गंभीर स्थिति और ट्रायल के नियम और शर्ते कठिन होने की वजह से 40 मरीजों पर ट्रायल नहीं हो पाया। हालांकि, जिन मरीजों पर ट्रायल किया गया उसके परिणाम अच्छे बताए जा रहे हैं। इनमें कुछ मरीज तो ऑक्सीजन सपोर्ट पर थे और ठीक हुए हैं।
हालांकि, एम्स के अधिकारियों का कहना है कि जब तक ट्रायल पूरा होने के बाद अंतिम नतीजे न आ जाएं तो यह कहना जल्दबाजी होगा दवा कितनी कारगर है। इसी साल जुलाई अंत तक ट्रायल पूरा होने की उम्मीद है। प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है दवा यूएस फूड एवं ड्रग एडिमिनिस्ट्रेशन (एफडीए), काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एवं इंडस्टि्रयल रिसर्च (सीएसआईआर) और आइसीएमआर की देखरेख में एम्स भोपाल में इस दवा का ट्रायल किया जा रहा है। यह दवा इंजेक्शन के रूप में दी जा रही है। यह इम्युनोमाड्युलेटर है। ऐसा माना जा रहा है कि इससे मरीज की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है, जिससे उसमें बीमारियों से लड़ने की ताकत आ जाती है। एम्स भोपाल के अलावा पीजीआई चंडीगढ़ समेत कुछ अन्य चिकित्सा संस्थानों में भी इस दवा का ट्रायल किया जा रहा है।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *